कोरोना से पीड़ित माताओं के शिशुओं को स्तनपान कराने के क्या जोखिम हैं? जानिए वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन की क्या सलाह है।

कोरोना से पीड़ित माताओं के शिशुओं को स्तनपान कराने के क्या जोखिम हैं WHO इस बारे मैं क्या कहता है आइये जानते है.

आगरा न्यूज़ :भारत में कोरोना महामारी के प्रकोप के साथ नवजात शिशुओं के माता-पिता अपने और अपने बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WORLD HEALTH ORGANIZATION) ने कहा है कि एक बच्चे को स्तनपान कराने में कोरोनावायरस का कोई खतरा नहीं है। यही कारण है कि कोरोना वायरस या COVID​​-19 वाली माताएं अपने बच्चे को स्तनपान करा सकती हैं।

शुक्रवार को डब्ल्यू.एच.ओ महानिदेशक डॉ. टेड्रोस गेब्रियास ने COVID-19 पर एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि माताओं को अपने बच्चों को स्तनपान कराने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, भले ही वे कोरोना से पीड़ित हों या संक्रमित होने का संदेह हो।

अभी तक माँ के दूध से संक्रमण का कोई सबूत नहीं है:

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मातृ, शिशु, बाल और किशोर स्वास्थ्य निदेशक डॉ। अंशु बनर्जी ने कहा कि स्तनपान के माध्यम से अब तक कोरोना वायरस का कोई प्रमाण नहीं मिला है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने यह भी कहा कि हमें अब तक माँ के दूध में कोई जीवित वायरस नहीं मिला है।

माताओं के लिए दिशा निर्देश:
हालांकि डब्ल्यू.एच.ओ ने COVID-19 से पीड़ित माताओं के लिए स्तनपान पर भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं। वे कहते हैं कि स्तनपान से पहले मां को मास्क पहनना चाहिए। बच्चे को गले लगाने या छूने से पहले और बाद में अपने हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। इसके अलावा, आसपास के क्षेत्र को साफ और वायरस मुक्त रखा जाना चाहिए।

Share
Team Agra News

Recent Posts

बांके बिहारी जी(Banke Bihari) का अलौकिक भक्त डाकू गोवर्धन

एक बार राजिस्थान मैं भागवत की कथा हो रही थी वही एक चोर जो हर…

3 weeks ago

Phone Pe Loan लेने के लिए क्या करें:

आज हम जानते है Phone Pe Loan कैसे ले सकते है । आज के माहौल मैं…

2 months ago

आगरा में अब 91 केंद्रों पर करा सकेंगे वेक्सिनेशन -The Agra News

आगरा न्यूज़ : आगरा में अब 91 केंद्रों पर युवा करा सकेंगे वेक्सिनेशन। युवाओ में…

2 months ago